November 30, 2021

दशहरा क्यों मनाया जाता है? पूरा सच जानकर चौक जाएंगे आप.

रावण- राम प्रतीक माना जाता है बुराई पर अच्छाई की जीत लेकिन कई ऐसे लोग हैं जिन्हें दशहरा क्यों मनाया जाता है? और हमारा दुर्भाग्य हम हमारे नई जनरेशन को गलत इंफॉर्मेशन प्रदान करते हैं. हम केवल क्या जानते हैं बस इतना ही की आज के दिन प्रभु श्री राम ने रावण का वध किया था.


दशहरा क्यों मनाया जाता है?
दशहरा क्यों मनाया जाता है?
सीता माता को कैद से मुक्त किया था और भी इसी वजह से हम रावण को एक बुरे इंसान की नजर से देखते हैं. क्या रावण इतना बुरा इंसान था ? कि हम रावण को राक्षस के रूप में मानते हैं.

जी नहीं आप गलत हो रावण जैसा पूरी दुनिया में भक्त अभी तक कोई पैदा नहीं हुआ. उसके जितना कोई महा ज्ञानी पैदा नहीं हुआ रावण व्यक्ति था जो प्रभु शिव का भक्त था. अगर हम शिव भक्तों की बात करते हैं तो रावण का नाम सबसे ऊपर आता है और रावण की तपस्या को हम ऐसे ही नजरअंदाज नहीं कर सकते. रावण एक महा तपस्वी था 

रावण की मां का नाम क्या था ?

रावण की माता का नाम केकेसी और पिता ऋषि विश्वा थे रावण महा ज्ञानी था रावण से ज्यादा महा ज्ञानी अभी तक यह पृथ्वी पर कोई जन्मा नहीं ले पाया रावण को वहीद शास्त्र ,आयुर्वेद इन सब पर महारत हासिल थी जो इंसान इतना बड़ा तपस्वी, ज्ञानी और शिव का भक्त हो क्या वह बुरा हो सकता है? अगर रावण बुरा होता तो वह सीता को ले जाने के बाद दुष्कर्म कर सकता था परंतु रावण ने ऐसा कुछ भी नहीं किया हम केवल उतना ही समझ सकते हैं जितनी हमारी समझ है 

रावण का वध किसने किया था? 

यह सारी चीजों को समझने के लिए हमारे पास अच्छा ज्ञान होना चाहिए प्रभु राम ने रावण का वध नहीं किया था और रावण के 10 सिर को नष्ट करना या मात्र एक प्रतीक था हमने तो मात्रा रामायण कथा में इतना ही सुना है कि रावण के 10 सिर थे अगर रावण का एक सिर काट दिया जाता था और दोबारा से बस सिर फिर से आ जाता था रावण के 10 सिर वह तो मात्र विचारों के प्रतीक हैं 

  1. काम
  2. क्रोध 
  3. लोभ 
  4. मोह 
  5. अहंकार 
  6. ईर्ष्या 
  7. डाह 
  8. छल 
  9. कपट 
  10. आलस्य 
यह सारे विकार हमारे अंदर भी होते हैं और यह 10 विकार रावण के प्रतीक है 10 विकार यानी कि 10 सिर इन विकारों को एक-एक करके नहीं गिना जा सकता इसीलिए इसे रावण का जब एक सिर कटता था तब वह फिर से आ जाता था लेकिन आप अपनी असल जिंदगी में देखिए क्या आप अपने विकारों को एक-एक करके खत्म कर सकते हो ? 

अगर आप भी अपने अंदर एक विकार खत्म करने गए तो दूसरा भी कर आपके अंदर तुरंत आ जाता है हम सब में से कई लोग के अंदर बहुत सारा गुस्सा होगा बहुत सारा अहंकार होगा , मैं मोह माया में फंसा हूं , मुझे आलस्य बहुत आता है , आप भी जानते हो और मैं भी जानता हूं कि हम यह सारे विकारों को एक-एक करके विकारों को खत्म नहीं कर सकते. 

तो ऐसे में प्रभु राम ने क्या किया ? 

प्रभु राम ने रावण की नाभि पर तीर से वार किया और वही होती है हमारी बॉडी का एक केंद्र आपको भी पता होगा कि हमारे अंदर पांच ऐसे केंद्र है जिन पर हमने विजय प्राप्त कर लिया तो हम अपने पूरे जीवन को शांति से सारी शक्तियां हम प्राप्त कर सकते हैं. 

इसलिए आपको रोजाना मेडिटेशन जरूर करना चाहिए हमारा शरीर और हमारा मन हमारा मन काफी ज्यादा अवचेतन है और इसे काबू में करना काफी मुश्किल इसलिए रोजाना अगर आप अपने जीवन में 10 मिनट भी मेडिटेशन करते हो तो आप अपने अवचेतन मन को एक चेतन मन के रूप में बदल सकते हो. 

और किसी महान इंसान ने कहा है , 

जिस व्यक्ति ने अपने आप को वश में कर लिया। उसकी जीत को कोई भी हार में नहीं बदल सकते है | 


प्रभु श्री राम जी ने भगवान रावण का वध मात्र एक बार किया था मैंने यहां पर इसलिए रावण के आगे ” भगवान ” लगाया है क्योंकि राम जी भी जानते थे रावण से ज्यादा कोई बुद्धिमानी व्यक्ति उन्हें मिले नहीं है. अगर रावण बुरा होता तो वह अपने अंतिम मृत्यु के समय प्रभु राम लक्ष्मण को कहते हैं कि जाओ रावण से ज्ञान प्राप्त कर लो प्रभु राम सब कुछ जानते थे मैं आपको यह नहीं कह रहा कि हमारी परंपराएं गलत है लेकिन जो हम परंपराएं मना रहे हैं वह गलत है. 

अगर आप रावण को हर साल जलाते हो तो आप यही भावना से जलाते हो गए की यह रावण का वध नहीं उनके दस विकारों का वध है. जिससे आज पूरा समाज ग्रसित है जो गलतियां हम रावण को जलाकर करते हैं वही गलती श्रीलंका में भगवान श्री राम जी का पुतला जलाकर करते हैं. 

यह केवल एक दूसरे की परंपरा को ठेस पहुंचाना है यह पृथ्वी पर सबसे पहले कथा ” रामायण ” यह मात्र ऐसी कथा है जो एकमात्र हमारे जीवन पर निर्भर करती है और हमारे फिल्में भी कहीं ना कहीं यही सारी कथाएं हो पर मिलती है पर हम इससे ज्यादा सोच नहीं सकते हम सब लोग जानते हैं की बुराई नाश होता है और अच्छाई की जीत होती है 

आपने क्या सीखा ? 


मुझे आशा है कि आपको , ” दशहरा क्यों मनाया जाता है? ” आर्टिकल आपको पसंद आया होगा अगर आपको यह आर्टिकल से रिलेटेड कोई भी सवाल या फिर कोई भी डाउट हो तो हमें कमेंट करके जरूर बताइए. 

अगर आपको और दशहरा क्यों मनाया जाता है? योर आर्टिकल पसंद आया होगा तो इसे सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म जैसे कि , व्हाट्सएप, फेसबुक और signal massager अपने मित्रों के साथ जरूर शेयर करें. 


यह सारे आर्टिकल को भी पढ़े :


Om sonawane

Hey, I’m Om. I’m a foundar of notechandfun living in India. I am a fan of technology, travel, and movies. I’m also interested in food and cycling. You can read my articles with notechandfun

View all posts by Om sonawane →

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *